कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजना

  • नियम एवं विनियम
  • उद्देश्य

    • अन्य पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियों को उनके कौशल विकास में वृद्धि करते हुए रोजगार के सुअवसर प्रदान करने के उद्देश्य से योजना संचालित है।

    पात्रता

      • उत्तर प्रदेश के मूल निवासी।
      • इण्टरमीडिएट (10+2) पास बेरोजगार युवक/युवतियों हेतु।
      • माता-पिता/ अभिभावकों की वार्षिक आय रू0 एक लाख तक अथवा उससे कम।

    कोर्स व अवधि

        • ‘ओ’ लेवल कम्प्यूटर प्रशिक्षण         अवधि  - 01 वर्ष।
        • ‘सी0सी0सी0’ कम्प्यूटर प्रशिक्षण   अवधि  - 03 माह।

    धनराशि

        • ‘ओ’ लेवल कम्प्यूटर प्रशिक्षण हेतु   अधिकतम् रू0 15,000/- प्रति प्रशिक्षार्थी (03 चरणों में)।
        • ‘सी0सी0सी0’ कम्प्यूटर प्रशिक्षण   अधिकतम् रू0  3,500/- प्रति प्रशिक्षार्थी।

    चयन प्रक्रिया

        • कम्प्यूटर प्रशिक्षण हेतु संस्थाओं के चयन की कार्यवाही निदेशक की अध्यक्षता में एवं लाभार्थियों के चयन के लिए जनपद स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित समिति के माध्यम से की जाती है।

    आनलाइन आवेदन के संबंध में दिशा-निर्देश

        • सर्वप्रथम प्रशिक्षणार्थी द्वारा  http://obccomputertraining.upsdc.gov.in बेबसाइट पर लागिन करना।
        • प्रशिक्षणार्थी द्वारा रजिस्ट्रेशन नाम व मोबाइल नम्बर अंकित किया जाना।
        • ओ0टी0पी0 बाक्स में मोबाइल पर प्राप्त ओ0टी0पी0 दर्ज कर वेरीफाई किया जाना।
        • मोबाइल पर प्राप्त रजिस्ट्रेशन व पासवर्ड प्राप्त किया जाना तदोपरान्त लागिन किया जाना।
        • लागिन के पश्चात् रजिस्ट्रेशन व पासवर्ड एवं कैप्चर कोड अंकित करते हुए लागिन करना।
        • लागिन करने के पश्चात् आनलाइन प्रदर्शित कालम में सूचना अंकित करना एवं अभिलेख (आय, जाति, इण्टरमीडिएट अंक पत्र, स्वयं का फोटो आदि) अपलोड करना।
        • आवेदन पत्र को Save करते हुए फाइनल लाक किया जाना है।
        • आवेदन पत्र के प्रिंटआउट प्राप्त करते हुए समस्त संलग्नकों सहित संबंधित जिले के जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी कार्यालय में जमा करना।

    महत्वपूर्ण बिन्दु

        • संस्थाओं/प्रशिक्षणार्थियों के चयन हेतु आनलाईन आवेदन की व्यवस्था वर्ष 2018-19 से प्रारम्भ की गई है।
        • प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षार्थियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने तथा पारदर्शिता के लिए राज्य एन.आई.सी. के माध्यम से आधार आधारित उपस्थिति प्रणाली के माध्यम से प्रशिक्षण की निगरानी की जा रही है।
        • ‘सी.सी.सी.’ प्रशिक्षणार्थियों का प्रशिक्षण पूर्ण होने के उपरान्त संस्था द्वारा जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी को भुगतान हेतु मांग प्रेषित की जायेगी।
        • सम्बन्धित जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के स्तर से सत्यापनोपरान्त भुगतान हेतु मांग निदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण को प्रेषित की जायेगी, तदोपरान्त निदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण, उ0प्र0 द्वारा भुगतान संस्था के खाते में ई-पेमेन्ट के माध्यम से किया जायेगा।
        • ‘ओ’ लेवल प्रशिक्षण हेतु संस्था को भुगतान की जाने वाली धनराशि को तीन किस्तों में भुगतान किया जायेगा। प्रथम किस्त के रूप में 25 प्रतिशत धनराशि का भुगतान प्रशिक्षणदायी संस्था को प्रशिक्षण प्रारम्भ होने के एक माह पश्चात् सत्यापन के उपरान्त किया जायेगा। विभाग द्वारा चयनित एवं संस्था द्वारा निलीट में पंजीकृत कराये गये प्रशिक्षणार्थियों में से भुगतान केवल उन्हीं छात्रों के सापेक्ष किया जायेगा जिन्होंने प्रथम माह के दौरान कम से कम 75 प्रतिशत उपस्थिति पूर्ण की हो। द्वितीय किस्त के रूप में 50 प्रतिशत धनराशि का भुगतान प्रशिक्षण शुरू होने के तीन माह के उपरान्त कुल शैक्षिक दिवसों के सापेक्ष समग्र रूप से 75 प्रतिशत से अधिक उपस्थिति वाले छात्रों के सापेक्ष किया जायेगा। तृतीय किस्त के रूप में शेष 25 प्रतिशत का भुगतान प्रशिक्षणार्थियों के ‘ओ’ लेवल के दो पेपर की परीक्षा में सम्मिलित होने के प्रमाण पत्र के साथ संस्था द्वारा जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी को भुगतान हेतु मांग प्रेषित की जायेगी। सम्बन्धित जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के स्तर से सत्यापनोपरान्त भुगतान हेतु मांग निदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण को प्रेषित की जायेगी, तदोपरान्त निदेशक, पिछड़ा वर्ग कल्याण, उ0प्र0 द्वारा भुगतान संस्था के खाते में ई-पेमेन्ट के माध्यम से किया जायेगा। प्रदेश स्तरीय समिति संस्थाओं का प्रतिवर्ष मूल्यांकन करेगी, जिन संस्थाओं का प्रशिक्षण व परीक्षा परिणाम संतोषजनक नहीं पाया जायेगा उन्हें अगले वित्तीय वर्ष के लिए चयन न करने पर विचार किया जायेगा।
        • वित्तीय वर्ष 2019-20 में कुल रू0 1500.00 लाख बजट प्राविधान।

    प्रशिक्षणार्थी हेतु दिशा निर्देश/शर्ते 

    आवेदकों के कक्षा-12 के प्राप्तांक प्रतिशत के आधार पर जनपदवार लक्ष्य के सापेक्ष प्रशिक्षणार्थियों का चयन किया जायेगा शेष पात्र आवेदक प्रतीक्षा सूची में रखे जायेंगे। जनपद में चयनित संस्थाओं में से आवेदकों द्वारा आनलाइन विकल्प के आधार पर दी गयी वरीयता तथा संस्थावार निर्धारित लक्ष्य के अनुसार प्रशिक्षणार्थियों को संस्थाओं का आवंटन किया जायेगा।आवेदकों के कक्षा-12 के प्राप्तांक प्रतिशत के आधार पर जनपदवार लक्ष्य के सापेक्ष प्रशिक्षणार्थियों का चयन किया जायेगा शेष पात्र आवेदक प्रतीक्षा सूची में रखे जायेंगे। जनपद में चयनित संस्थाओं में से आवेदकों द्वारा आनलाइन विकल्प के आधार पर दी गयी वरीयता तथा संस्थावार निर्धारित लक्ष्य के अनुसार प्रशिक्षणार्थियों को संस्थाओं का आवंटन किया जायेगा।

    प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले प्रशिक्षणार्थियों को निम्न शर्ते स्वीकार करना आवश्यक है:-

        • पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा संचालित कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजना हेतु आवेदन करने वाले छात्रों को किसी अन्य सरकारी योजना जैसे:- छात्रवृत्ति/शुल्क प्रतिपूर्ति आदि का लाभ न मिल रहा हो।
        • कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजनान्तर्गत (‘ओ’ लेवल अथवा सी0सी0सी0) चयनित किये गये छात्रों का पंजीकरण तथा संस्था द्वारा दिये जाने वाला प्रशिक्षण निःशुल्क होगा। पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा प्रशिक्षण शुल्क का भुगतान नियमानुसार संस्था को किया जायेगा। प्रशिक्षणार्थी को पंजीकरण अथवा प्रशिक्षण शुल्क के रूप में कोई भी धनराशि संस्था को भुगतान नहीं करनी होगी। राष्ट्रीय इलेक्ट्रानिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान ‘‘नीलिट’’ द्वारा आयोजित किसी भी परीक्षा हेतु लिया जाने वाला परीक्षा शुल्क प्रशिक्षणार्थी द्वारा स्वयं नीलिट को आनलाइन भुगतान करना होगा।
        • प्रशिक्षणार्थी यदि बिना किसी समुचित कारण के प्रशिक्षण बीच में ही छोड़ देता है तो पंजीकरण शुल्क प्रशिक्षणार्थी को वापस करना होगा तथा भविष्य में उक्त योजना हेतु पात्र नहीं होगा।
        • प्रशिक्षणार्थियों की प्रशिक्षण के दौरान 75 प्रतिशत बायोमैट्रिक उपस्थिति अनिवार्य होगी। यदि कोई प्रशिक्षणार्थी बिना समुचित कारण/सूचना के 15 दिनों या उससे अधिक अनुपस्थित रहता है तो उसके स्थान पर प्रतीक्षा सूची में रखे गये छात्र का चयन किया जा सकता है। ऐसी स्थिति में अनुपस्थित प्रशिक्षणार्थी कोई दावा पुनः नहीं कर सकेगा।
        • पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा ‘ओ’ लेवल/सी0सी0सी0 कम्प्यूटर प्रशिक्षण हेतु प्रशिक्षणार्थी एक बार ही योजना का लाभ लेने के लिए पात्र होगा। सी0सी0सी0 कम्प्यूटर प्रशिक्षण करने के उपरान्त प्रशिक्षणार्थी अगले वित्तीय वर्षां में ‘ओ’ लेवल कोर्स के आवेदन हेतु पात्र होगा, परन्तु ‘ओ’ लेवल कोर्स हेतु योजना का लाभ लेने वाले प्रशिक्षणार्थियों का पुनः ‘ओ’ लेवल/सी0सी0सी0 हेतु चयन नहीं किया जायेगा।

    विगत् 5 वर्षो में कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजना की प्रगति रिपोर्ट

    वित्तीय वर्ष प्रशिक्षार्थियों की संख्या

    धनराशि
    (करोड़ रू0)

    2014-15 3,000 2.99
    2015-16 7,526 7.53
    2016-17  7,392 10.999
    2017-18  9,431 10.999
    2018-19 16,134 13.38

     

    कम्प्यूटर प्रशिक्षण से सम्बन्धित शाासनादेश

    क्र०सं० शासनादेश संख्‍या दिनांक विषय डाउनलोड
    06 26/2018/1231/64-2-2018-1(68)/2006 28 नवम्बर, 2018 पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियों के लिए संचालित ‘ओ’ लेवल एवं सी.सी.सी. कम्प्यूटर प्रशिक्षण योजनान्तर्गत जारी दिशा-निर्देशों में संशोधन के सम्बन्ध में। देखें
    05 06/2018/190/64-2-2018-1(68)/2006
    27 फरवरी, 2018 पिछड़े वर्ग के बेरोजगार युवक/युवतियों के लिये संचालित ''ओ'' लेवल एवं सी0सी0सी0 कम्‍प्‍यूटर प्रशिक्षण योजना को वित्तीय वर्ष 2018-19 सेऑनलाइन किये जाने के सम्बन्ध में। देखें
    04 27/2017/430/64-2-2017-1(68)/2006 27 जून, 2017 पिछड़े वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक/युवतियों को''ओ'' लेवल कम्‍प्‍यूटर प्रशिक्षण योजनान्‍तर्गत द्रितीयसंशोधन नियमावली-2017 देखें
    03 24/2016/572/64-2-2016-1(68)/2006 30 अगस्‍त, 2016 पिछड़े वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक/युवतियों को''ओ'' लेवल कम्‍प्‍यूटर प्रशिक्षण योजनान्‍तर्गत प्रथमसंशोधन नियमावली-2016 का शुद्धि पत्र। देखें
    02 23/2016/556/64-2-2016-1(68)/2006 19 अगस्‍त, 2016 पिछड़े वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक/युवतियों को ''ओ'' लेवल कम्‍प्‍यूटर प्रशिक्षण योजनान्‍तर्गत प्रथमसंशोधन नियमावली-2016 देखें
    01 1721/64-2-2008-1(68)/2006 13 फरवरी, 2008 पिछड़े वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक/युवतियों को ''ओ'' लेवल कम्‍प्‍यूटर प्रशिक्षण योजना के संचालनहेतु वित्‍तीय स्‍वीकृति दिया जाना। देखें